Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 30.01.2019

In: World
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 30 Jan 2019

30 जनवरी की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1522 - ल्यूबेक और डेनमार्क के बीच युद्ध।

1641 - पुर्तग़ाल ने मलक्का की खाड़ी व मलाया डचों को सौंप दी।

1648 - स्पेन और हॉलैंड के बीच शांति समझौता हुआ।

1649 - इंग्लैंड के सम्राट 'चार्ल्स प्रथम' को फ़ांसी दी गई।

1788 - ब्रिटेन के राजकुमार' चार्ल्स एडवर्ड स्टुअर्ट' की रोम में मौत हो गयी।

1790 - लाइफ़बोट के तौर पर निर्मित पहली नाव का टायन नदी में परीक्षण।

1902 - चीन और कोरिया की स्वतंत्रता के बारे में ब्रिटेन और जापान के बीच पहली 'आंग्ल-जापानी संधि' पर लंदन में हस्ताक्षर हुए।

1903 - लॉर्ड कर्ज़न ने मेटकाफ़ हॉल में 'इंपीरियल लाइब्रेरी' का उद्घाटन किया।

1911 - 'कैनेडियन नेवल सर्विस' का नाम बदलकर 'रॉयल कैनेडियन नेवी' किया गया।

1913 - 'हाउस आफ़ लॉर्ड्स' ने आइरिश होम रूल बिल को ख़ारिज किया।

1933 - एडॉल्फ़ हिटलर ने आधिकारिक रूप से जर्मनी के चांसलर की कमान सम्भाली।

1943 - स्टालिन ग्राफ़ के पास सोवियत फ़ौजों से जर्मन सेना हारी।

1948 - महात्मा गांधी की हत्या हुई।

1949 - रात्रि एयर मेल सेवा की शुरूआत हुई।

1957 - राष्ट्र संघ ने दक्षिण अफ़्रीका को अपनी नस्ल भेदी नीति पर पुनर्विचार करने के लिए कहा।

1964 - दक्षिण वियतनाम में सेना ने सत्ता पर कब्ज़ा किया।

1971 - इंडियन एयरलाइंस के ‘फोकर फ्रेंडशिप विमानका अपहरण।

1972 - पाकिस्तान ने 'राष्ट्रमंडल' से अपना नाम वापस लिया।

1974 - इंडियन एयरलाइंस के 'फोकर फ़्रेंडशिप विमान' का अपहरण हुआ।

1979 - रोडेशिया में नया संविधान बना, जिसमें अश्वेतों को सत्ता में भागीदारी का अधिकार मिला।

1988 - कंबोडिया में 'नरोत्तम सिंहानुक' ने इस्तीफ़ा दिया।

1989 - अमेरिका ने अफ़ग़ानिस्तान के काबुल में अपना दूतावास बंद किया।

1991 - इराकी सेना ने सउदी अरब की सीमा के नजदीक एक शहर पर कब्जा कर लिया। इस हमले में 12 अमेरिकी सैनिक मारे गए।

1997 - सैंतालिस वर्षों बाद महात्मा गांधी की अस्थियाँ संगम में विसर्जित।

2001 - गुजरात में आये भूकम्प के बाद महामारी की आशंका को रोकने के लिए पुनर्वास के और उपाय। भूकम्प में मरने वालों की संख्या 30 हज़ार तक पहुँची।

2003 - एरियल शेरोन ने अराफ़ात का शांति वार्ता प्रस्ताव को ठुकराया।

2005 - वियतनाम में बर्ड फ़्लू से 12 लोग मरे। इराक में सम्पन्न चुनाव में 72 प्रतिशत मतदान। रूस के मरात साफिन ने आस्ट्रेलियाई ओपन का पुरुष एकल खिताब जीता।

2006 - इस्रायल ने फ़िलिस्तीन में हमास की जीत के कारण वित्तीय सहायता की योजना पर रोक लगाई।

2007 - टाटा ने एंग्लो डच स्टील निर्माता कंपनी कोरस ग्रुप को 12 अरब डॉलर से अधिक में ख़रीदा।

2008 - चेन्नई की एक विशेष अदालत ने बहुचर्चित स्टाम्प घोटाले के मामले के मुख्य आरोपी अब्दुल करीम तेलगी को 10 साल की सज़ा सुनाई। फीजी में आये उच्च उष्ण कटिबन्धीय तूफान ने भारी तबाही मचायी।

2009- आस्ट्रेलिया ओपन के मिक्स्ड डबल मुक़ाबले में सानिया मिर्ज़ा व महेश भूपति की जोड़ी फाइनल में पहुँची।

2010 - विश्व के नंबर एक खिलाड़ी रोजर फेडरर ने ब्रिटेन के एंडी मरे को हराकर, नंबर एक महिला खिलाड़ी अमेरिका की सेरेना विलियम्स ने बेल्जियम की जस्टिन हेनिन को हराकर तथा लिएंडर पेस और जिंबाब्वे की कारा ब्लैक की जोड़ी ने ऑस्ट्रेलियाई ओपन में क्रमशः पुरुष एकल, महिला एकल और मिक्स्ड डबल्स खिताब जीता।

 

 30 जनवरी को जन्मे व्यक्ति

1890 - जयशंकर प्रसाद - हिन्दी साहित्यकार, प्रमुख रचनाएँ- कामायनी, चन्द्रगुप्त

1910 - सी. सुब्रह्मण्यम - भारत में "हरित क्रांति के पिता"।

1913 - अमृता शेरगिल - प्रसिद्ध भारतीय महिला चित्रकार

1927 - ओलोफ़ पाल्मे का जन्म।

30 जनवरी को हुए निधन

1530 - राणा संग्राम सिंह - मेवाड़।

1948 - महात्मा गाँधी - भारत के राष्ट्रपिता

1968 - माखन लाल चतुर्वेदी - हिन्दी साहित्यकार

1960 - नाथूराम प्रेमी - प्रसिद्ध लेखक, कवि, भाषाविद और सम्पादक। जे.सी. कुमारप्पा - भारत के एक अर्थशास्त्री थे।

 

30 जनवरी के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

शहीद दिवस

 

चेन्नई में सौर ऊर्जा और जल उपचार प्रौद्योगिकी मिशन केन्द्रों का शुभारंभ किया गया

सौर ऊर्जा केंद्र

इन तीनों में पहले डीएसटी- आईआईटीएम सोलर एनर्जी हारनेसिंग सेंटर की स्‍थापना की गई है. इस केंद्र में सिलिकॉन सोलर सेल जैसी अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास गतिविधियों की विस्‍तृत श्रृंखला पर ध्‍यान केंद्रित किया जायेगा. सिलिकॉन सोलर सेल उच्‍च दक्षता से युक्‍त हैं और भारतीय परिस्थितियों के अनुकूल हैं. इस केंद्र में नियुक्‍त अनुसंधानकर्ताओं के नेटवर्क में आईआईटी मद्रास, आईआईटी गुवाहाटी, अन्‍ना विश्‍वविद्यालय, आईसीटी मुंबई, बीएचईएल और केजीडीएस के वैज्ञानिक शामिल हैं.

 

जल उपचार केंद्र

दूसरा केंद्र डीएसटी-आईआईटीएम वॉटर-आईसी फॉर एसयूटीआरएएम ऑफ ईज़ी वॉटर (निपुण, सस्‍ते और समाधानों के लिए सतत उपचार, पुन: उपयोग और प्रबंधन के लिए डीएसटी-आईआईटीएम वॉटर इनोवेशन सेंटर) है. इसे अपशिष्‍ट जल प्रबंधन, जल उपचार, सेंसर विकास, तूफान के जल के प्रबंधन, वितरण और एकत्रीकरण प्रणालियों से संबंधित विभिन्‍न मुद्दों के बारे में समावेशी अनुसंधान और प्रशिक्षण कार्यक्रमों को आयोजित करने के उद्देश्‍य से स्‍थापित किया गया है.

यह बहुविध संस्‍थागत वर्चुअल केंद्र, अपशिष्‍ट जल उपचार, पुन:उपयोग, तूफान जल प्रबंधन के माध्‍यम से जल संसाधनों के संरक्षण और संवर्द्धन के लिए एक स्‍थायी दृष्टिकोण स्‍थापित करेगा. अनुसंधान प्रौद्योगिकी विकास और क्षमता निर्माण के माध्‍यम से बहुत अधिक प्रदूषित और जल का अधिक उपयोग करने वाले उद्योगों के लिए ग्रामीण और शहरी भारत के लिए पेयजल के पर्याप्‍त, सुरक्षित, विश्‍वसनीय और सतत स्रोतों को सुनिश्चित करने के लिए एक समावेशी तरीके से कार्य करने और सहयोग करने के लिए इस क्षेत्र में अपशिष्‍ट जल प्रबंधन, जल उपचार, सेंसर विकास और तूफान जल प्रबंधन के क्षेत्र में कार्यरत विभिन्‍न प्रमुख संगठनों के विभिन्‍न समूहों के लिए विशिष्‍ट अवसर उपलब्‍ध करायेगा.

 

सोलर थर्मल केंद्र

तीसरा केंद्र ‘द टेस्‍ट बेड ऑन सोलर थर्मल डिसेलिनेशन सोल्‍यूशन्‍सहोगा. इसे तमिलनाडु में रामनाथपुरम जिले के नारिपयूर में एक समाधान प्रदाता के रूप में आईआईटी मद्रास और इम्‍पीरियल केजीडीएस द्वारा स्‍थापित किया जा रहा है. इसका उद्देश्‍य बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित शुष्‍क तटीय गांव में मौजूद जल चुनौतियों से निपटने के लिए तकनीकी समाधान उपलब्‍ध कराना है. इसके विकास से सौर ऊर्जा का उपयोग करते हुए तटीय क्षेत्रों में पीने का पानी उपलब्‍ध कराने के लिए अनुकूल प्रौद्योगिकीय जल समाधान उपलब्‍ध होंगे.

 

नौसेना वायु स्टेशन आईएनएस कोहासा की शुरुआत की गई

आईएन कोहासा को यह नाम व्‍हाइट बेलिड सी ईगल के नाम पर दिया गया है जो अंडमान-निकोबार द्वीप समूह का स्‍थानीय बड़ा शिकारी पक्षी है.

इस भव्‍य समारोह में वाइस एडमिरल विमल वर्मा, एवीएसएम, एडीसी कमांडर-इनचीफ, अंडमान-निकोबार कमान सहित अनेक गणमान्‍य व्‍यक्तियों और वरिष्‍ठ अधिकारियों ने भाग लिया. समारोह कार्यक्रम में औपचारिक गॉर्ड प्रस्‍तुति कमीशनिंग छोटी पताका फहराना और कमांडिंग अधिकारी, कमांडर कुलदीप त्रिपाठी द्वारा जहाज का वारंट पढ़ना शामिल थे.

 

नौसेना वायु स्‍टेशन – आईएनएस कोहासा

नौसेना वायु स्‍टेशन शिबपुर को उत्‍तरी अंडमान में निगरानी बढ़ाने के लिए एक फारवर्ड ऑपरेटिंग एयरबेस (एफओएबी) के रूप में वर्ष 2001 में स्‍थापित किया गया था. अब इसे आईएनएस कोहासा के रूप में शुरू किया गया है.

कोको आइलैंड (म्‍यांमार) के नजदीक स्थित होने और भारतीय विशिष्‍ट आर्थिक ज़ोन ईईजेड के व्‍यापक विस्‍तार के कारण यह एक बहुत महत्‍वपूर्ण परिसंपत्ति बन जाता है.

एयरफील्‍ड भारतीय वायु सेना और तटरक्षक विमानों के लिए विलगन परिचालन उपलब्‍ध कराता है.

यह वायु स्‍टेशन शॉर्ट रेंज मेरीटाइम टोही (एसआरएमआर) वायुयान और हैलीकॉप्‍टर संचालित करता है.

यह वायुयान स्‍टेशन दायित्‍व के एएनसी क्षेत्र में ईईजेड निगरानी एन्टी पोचिंग मिशन खोज और बचाव (एसएआर) और मानवीय सहायता आपदा राहत एचएडीआर मिशन संचालित करता है.

मलेशियाई एयरलाइन फ्लाइट 370 के खोज परिचालनों के दौरान नौसेना और तटरक्षक के डार्नियर डीओ 228 इसी बेस से परिचालित हुए थे.

नीति आयोग ने एनएएस कोहासा की समावेशी द्वीप विकास के एक हिस्‍से के रूप में एक ‘अर्ली बर्डके रूप में पहचान की थी. इस दिशा में एनएएस कोहासा नागरिक उड़ान परिचालन में सहायता प्रदान करने के लिए यह सभी तरह से तैयार है. इसका रन-वे बढ़ाकर दस हजार फुट करने की भी योजना है ताकि निकट भविष्‍य में यह बड़ी बॉडी के वायुयानों का परिचालन भी कर सके.

No comments yet...

Leave your comment

69482

Character Limit 400