Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 24.12.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 24 Dec 2018

24 दिसंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1524 - यूरोप से भारत तक पहुँचने के समुद्री मार्ग का पता लगाने वाले पुर्तग़ाली खोजी नाविक वास्को डी गामा का कोच्चि (भारत) में निधन हो गया।

1715 - स्वीडन की सेना ने नार्वे पर कब्जा किया।

1798 - रूस और ब्रिटेन के बीच दूसरे फ्रांस विरोधी गठबंधन पर हस्ताक्षर।

1894 - कलकत्ता में पहले मेडिकल कांफ्रेस का आयोजन।

1889 - भारत में पहला मनोरंजन पार्क एसेल वर्ल्‍ड मुम्बई में खोला गया।

1921 - नोबेल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा विश्व भारती विश्वविद्यालय की स्थापना की गई। 1954 - दक्षिण पूर्वी एशियाई देश लाओस ने स्वतंत्रता हासिल की।

1962 - सोवियत संघ ने नोवाया जेमल्या में परमाणु परीक्षण किया।

1967 - चीन ने लोप नोर क्षेत्र में परमाणु परीक्षण किया।

1986 - लोटस टैंपल श्रद्धालुओं के लिए खोला गया था।

1989 - देश का पहला अम्यूजमेंट पार्क एसेल वर्ल्डमहाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में खोला गया।

1996 - ताजिकिस्तान में गृहयुद्ध को समाप्त करने के लिए समझौता सम्पन्न।

2000 - विश्वनाथन आनंद विश्व शतरंज चैंपियन बने।

2002 - दिल्ली मेट्रो का शुभारंभ शहादरा तीस हज़ारी लाईन से हुआ था।

2003 - अमेरिकी विदेश विभाग ने 30 जून, 2004 को इराक में सत्ता सौंपने की तैयारी शुरू की।

2005 - यूरोपीय संघ ने 'खालिस्तान ज़िन्दाबाद फ़ोर्स' नामक संगठन को आतंकी सूची में शामिल किया।

2006 - शिखर बैठक में फ़िलिस्तीन को इस्रायल कई सुविधाएँ देने के लिए तैयार।

2007 - मंगल ग्रह के रहस्यों की खोज करने के लिए यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी यान मार्स ने मंगल ग्रह की कक्षा में अपने चार हज़ार चक्कर पूरे किये।

2008 - जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव के अन्तिम चरण में 55% वोट पड़े। 2011 - क्यूबा की सरकार ने 2900 कैदियों को रिहा करने की घोषणा की।

2014 - अटल बिहारी वाजपेयी और मदन मोहन मालवीय को भारत रत्न देने की घोषणा हुई।

 

24 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति

1880 - भोगराजू पट्टाभि सीतारामैया - प्रसिद्ध भारतीय स्वतंत्रता सेनानी, गाँधीवादी और पत्रकार।

1914 - बाबा आम्टे - विख्यात सामाजिक कार्यकर्ता, मुख्‍यत: कुष्‍ठरोगियों की सेवा के लिए विख्‍यात।

1924 - मुहम्मद रफ़ी, भारतीय गायक।

1959 - अनिल कपूर, भारतीय अभिनेता।

1892 - बनारसीदास चतुर्वेदी- प्रसिद्ध पत्रकार और साहित्यकार 1930 - उषा प्रियंवदा, पत्रकार एवं साहित्यकार 1924 - नारायण भाई देसाई, स्वतंत्रता सेनानी एवं महादेव देसाई के पुत्र 1961 - प्रीति सप्रू - भारतीय हिन्दी सिनेमा की प्रसिद्ध अभिनेत्री हैं।

 

24 दिसंबर को हुए निधन

1973 - ई.वी. रामास्वामी नायकर - तमिलनाडु के वेल्लोर।

1987 - एम. जी. रामचन्द्रन - तमिल अभिनेता और राजनेता।

1988 - जैनेन्द्र कुमार, हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक कथाकार और उपन्यासकार

24 दिसंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस

 

नीति आयोग ने सतत विकास लक्ष्य भारत सूची-2018 जारी की

 

नीति आयोग ने 21 दिसंबर 2018 को सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) भारत सूची 2018 जारी की. यह सूची 2030 एसडीजी लक्ष्यों को लागू करने में भारत के राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की प्रगति दर्शाती है.

एसडीजी भारत सूची को सांख्यिकी व कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय ने ग्लोबल ग्रीन ग्रोथ इंस्टीट्यूट और संयुक्त राष्ट्र (भारत) के सहयोग से तैयार किया है. इस सूची को नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार, सदस्य डॉ. रमेश चन्द्र, डॉ. वी.के.पॉल तथा डॉ. वी.के.सारस्वत, आयोग के सीईओ अमिताभ कांत, संयुक्त राष्ट्र संयोजक यूरी अफानासिव और सांख्यिकी व कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के सचिव तथा सीएसआई प्रवीन श्रीवास्तव ने जारी किया.

 

एसडीजी भारत सूची-2018 का आधार

एसडीजी भारत सूची 62 प्राथमिक संकेतकों पर आधारित है. इन संकेतकों का चयन नीति आयोग ने किया है. इस सूची में 17 एसडीजी में से 13 के आंकड़ों को शामिल किया गया है. एसडीजी 12, 13 और 14 का मापन संभव नहीं हो सका क्योंकि इनसे संबंधित आंकड़े राज्य/केन्द्रशासित प्रदेश द्वारा उपलब्ध नहीं कराए जा सके थे. एसडीजी 17 पर विचार नहीं किया गया है क्योंकि यह अंतर्राष्ट्रीय सहयोग पर आधारित है. कुल 13 एसडीजी के संदर्भ में प्रत्येक राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश के प्रदर्शन को 0-100 के पैमाने पर मापा गया है. यह राज्यों के औसत प्रदर्शन को दिखाता है. यदि किसी राज्य/केन्द्र शासित प्रदेश ने 100 प्राप्त किया है तो इसका अर्थ है कि राज्य ने 2030 के राष्ट्रीय लक्ष्यों को हासिल कर लिया है.

 

एसडीजी भारत सूची के वर्गीकरण का आधार

आकांक्षी: 0 – 49

अच्छा प्रदर्शन: 50 – 64

अग्रणी: 65 – 99

लक्ष्य प्राप्तकर्ता: 100

 

नीति आयोग द्वारा जारी निष्कर्ष

स्वच्छ पेयजल और स्वच्छता उपलब्ध कराने में, असमानता कम करने में और पर्वतीय पारिस्थितिकी को संरक्षित करने में हिमाचल प्रदेश ने उच्च स्थान प्राप्त किया है.

अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करने में, भूखमरी कम करने में, लैंगिक समानता हासिल करने में तथा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने में केरल ने सर्वोच्च स्थान प्राप्त किया है.

स्वच्छ पेयजल व स्वच्छता उपलब्ध कराने में, किफायती व स्वच्छ ऊर्जा प्रदान करने में, आर्थिक विकास करने में और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने में चंडीगढ़ ने अग्रणी स्थान प्राप्त किया है.

सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी)

 

सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) संयुक्त राष्ट्र द्वारा तय किये गये महत्वकांक्षी वैश्विक विकास लक्ष्य है जो सार्वभौमिक जन कल्याण से संबंधित है. ये लक्ष्य विभिन्न सामाजिक-आर्थिक, सांस्कृतिक और भौगोलिक पृष्ठभूमि वाले लोगों से संबंधित है तथा इनमें विकास के  आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय आयामों को शामिल किया गया है. संयुक्त राष्ट्र का एजेंडा 2030 के तहत 17 सतत विकास लक्ष्य तय किये गये हैं, जो कि निम्नलिखित हैं:

 

  • गरीबी के सभी रूपों की पूरे विश्व से समाप्ति
  • भूख की समाप्ति, खाद्य सुरक्षा और बेहतर पोषण और टिकाऊ कृषि को बढ़ावा
  • सभी आयु के लोगों में स्वास्थ्य सुरक्षा और स्वस्थ जीवन को बढ़ावा
  • समावेशी और न्यायसंगत गुणवत्ता युक्त शिक्षा सुनिश्चित करने के साथ ही सभी को सीखने का अवसर देना
  • लैंगिक समानता प्राप्त करने के साथ ही महिलाओं और लड़कियों को सशक्त करना
  • सभी के लिए स्वच्छता और पानी के सतत प्रबंधन की उपलब्धता सुनिश्चित करना
  • सस्ती, विश्वसनीय, टिकाऊ और आधुनिक ऊर्जा तक पहुंच सुनिश्चित करना.
  • सभी के लिए निरंतर समावेशी और सतत आर्थिक विकास, पूर्ण और उत्पादक रोजगार, और बेहतर कार्य को बढ़ावा देना
  • लचीले बुनियादी ढांचे, समावेशी और सतत औद्योगीकरण को बढ़ावा
  • देशों के बीच और भीतर असमानता को कम करना
  • सुरक्षित, लचीले और टिकाऊ शहर और मानव बस्तियों का निर्माण
  • स्थायी खपत और उत्पादन पैटर्न को सुनिश्चित करना
  • जलवायु परिवर्तन और उसके प्रभावों से निपटने के लिए तत्काल कार्रवाई करना
  • स्थायी सतत विकास के लिए महासागरों, समुद्र और समुद्री संसाधनों का संरक्षण और उपयोग
  • सतत उपयोग को बढ़ावा देने वाले स्थलीय पारिस्थितिकीय प्रणालियों, सुरक्षित जंगलों, भूमि क्षरण और जैव विविधता के बढ़ते नुकसान को रोकने का प्रयास करना 
  • सतत विकास के लिए शांतिपूर्ण और समावेशी समितियों को बढ़ावा देने के साथ ही सभी स्तरों पर इन्हें प्रभावी, जवाबदेही बनना ताकि सभी के लिए न्याय सुनिश्चित हो सके
  • सतत विकास के लिए वैश्विक भागीदारी को पुनर्जीवित करने के अतिरिक्ति कार्यान्वयन के साधनों को मजबूत बनाना.

No comments yet...

Leave your comment

48018

Character Limit 400