Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 22.11.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 22 Nov 2018

22 नवंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

2008 - भारती क्रिकेट टीम के कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अपना पद छोड़ने की धमकी दी। हिन्दी के प्रख्यात कवि कुंवर नारायण को वर्ष

2005 के ज्ञानपीठ पुरस्कार हेतु चुना गया।

 2007 - ब्रिटेन में अवैध प्रवासी की समस्या पर काबू पाने के लिए कड़ी घोषणायें की गईं।

2006 - भारत और वैश्विक कंसोर्टियन के छह अन्य देशों ने सूर्य की तरह ऊर्जा पैदा करने वाले प्राथमिक फ़्यूजन रिएक्टर की स्थापना करने के लिए पेरिस में ऐतिहासिक समझौता किया।

2002 - मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता के आयोजन के विरोध में नाइजीरिया में भड़के दंगे में सैंकड़ों लोग मारे गये।

2000 - पाकिस्तान व ईरान पर संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा प्रतिबंध।

1998 - बांग्लादेश की विवादास्पद लेखिका तस्लीमा नसरीन ने ढाका की अदालत में आत्मसमर्पण किया।

1997 - भारत की डायना हेडेन विश्व सुंदरी बनी।

1990 - ब्रिटिश प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर द्वारा त्यागपत्र की घोषणा।

1975 - जुआन कार्लोस स्पेन के राजा बने।

1971 - भारत और पाकिस्तान ने एक दूसरे की हवाई सीमाओं का उल्लंघन किया और दोनों देशों के बीच हवाई संघर्ष शुरू हुआ। 1968 - मद्रास राज्य का नाम बदलकर तमिलनाडु करने के प्रस्ताव को लोकसभा से स्वीकृति मिली।

1963 - डलास (टेक्सास) में सं.रा. अमेरिका के राष्ट्रपति जॉन एफ़, केनेडी की हत्या।

1920 - 'हकीम अजमल ख़ान जामिया' के पहले चांसलर बने।

 

22 नवंबर को जन्मे व्यक्ति

1963 - पुष्पेन्द्र कुमार गर्ग - नौकायन में भारत के प्रसिद्ध खिलाड़ियों में गिने जाते हैं।

1939 - मुलायम सिंह यादव - 'समाजवादी पार्टी' के मुखिया और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री

1916 - शांति घोष - वरिष्ठ भारतीय स्वतंत्रता सेनानी।

1892 - मीरा बेन - एक ब्रिटिश सैन्‍य अधिकारी की पुत्री, जिन्होंने 'भारतीय स्वतंत्रता संग्राम' में महात्मा गाँधी के सिद्धांतों से प्रभावित होकर खादी का प्रचार किया।

1899 - शहीद लक्ष्मण नायक - वरिष्ठ भारतीय स्वतंत्रता सेनानी।

1882 - वालचंद हीराचंद - भारत के प्रसिद्ध उद्योगपतियों में से एक थे।

1864 - रुक्माबाई - भारत की प्रथम महिला चिकित्सक थीं।

1830 - झलकारी बाई- झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई की नियमित सेना में, महिला शाखा 'दुर्गा दल' की सेनापति।

22 नवंबर को हुए निधन

2016 - राम नरेश यादव- मध्य प्रदेश के पूर्व राज्यपाल और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री

2016 - विवेकी राय - हिन्दी और भोजपुरी भाषा के प्रसिद्ध साहित्यकार थे।

1967- तारा सिंह- प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ तथा कट्टर सिक्ख नेता।

1881 - अहमदुल्लाह - भारत के स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे।

 

22 नवंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव राष्ट्रीय औषधि दिवस (सप्ताह)

 

केन्द्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु ने एयरसेवा 2.0 वेब पोर्टल लांच किया

केन्‍द्रीय नागरिक उड्डयन एवं वाणिज्‍य मंत्री सुरेश प्रभु और नागरिक उड्डयन राज्‍य मंत्री जयंत सिन्‍हा ने 19 नवंबर 2018 को नई दिल्‍ली में एयरसेवा 2.0 वेब पोर्टल और मोबाइल एप का उन्‍नत वर्जन लांच किया.

इस अवसर पर नागरिक उड्डयन मंत्री ने कहा कि उपयोगकर्ताओं (यूजर) को बेहतर अनुभव प्रदान करने के उद्देश्‍य से एयरसेवा के एक उन्‍नत वर्जन के विकास की जरूरत महसूस की जा रही थी.

वेब पोर्टल से संबंधित मुख्य तथ्य:

  • इस वेब पोर्टल में कई खूबियां शामिल की गई हैं. सोशल मीडिया के साथ सुरक्षित साइन-अप एवं लॉग-इन, यात्रियों की सुविधा के लिए चैटबॉट, सोशल मीडिया पर शिकायतों सहित बेहतर शिकायत प्रबंधन, वास्‍तविक समय पर उड़ानों की ताजा स्‍थिति से अवगत कराना और उड़ान कार्यक्रम से जुड़ा विस्‍तृत विवरण उपलब्‍ध कराना इन खूबियों में शामिल हैं.
  • एयरसेवा के उन्‍नत एवं बेहतरीन वर्जन का संचालन संवादात्‍मक वेब पोर्टल के साथ-साथ एंड्रायड एवं आईओएस दोनों ही तरह के प्‍लेटफॉर्मों पर प्रभावकारी मोबाइल एप के जरिए किया जाता है. इससे यात्रियों को बाधामुक्‍त एवं सुविधाजनक हवाई यात्रा करने का आनंद मिलेगा.
  • वेब पोर्टल और एप्‍लीकेशन से हवाई यात्रियों की प्रतिक्रियाओं एवं सुझावों से अवगत होने में मदद मिलेगी जिससे ठोस नीतिगत कदम उठाना आसान हो जाएगा.
  • इस अवसर पर सुरेश प्रभु एवं जयंत सिन्‍हा ने चेन्‍नई एयरपोर्ट को चैंपियन पुरस्‍कार प्रदान किया. चेन्‍नई एयरपोर्ट पर शत-प्रतिशत शिकायतों का निवारण एक साल के अंदर कर दिया गया है.

पृष्ठभूमि:

विमानन मंत्रालय के अनुसार, प्रत्‍येक वर्ष 5 करोड़ लोग हवाई सफर करते हैं और यह संख्‍या निकट भविष्‍य में कई गुना बढ़ जाएगी. एयरसेवा के जरिए अब तक 12 हजार से ज्यादा शिकायतों का समाधान किया जा चुका है. एयरसेवा 2.0 और आगामी एयरसेवा 3.0 में प्राप्त यात्रियों के फीडबैक के आधार पर आगे की नीतियां बनाई जाएंगी.

एयरसेवा 3.0 में डिजियात्रा का उपयोग करने वाले यात्रियों को एयरपोर्ट के डिजिटल मैप के अलावा लोकेशन ट्रैकिंग की सहूलियत भी मिलेगी. एयरसेवा पोर्टल और मोबाइल एप नवंबर 2016 में शुरू किया गया था. मंत्रालय के अनुसार एयरसेवा 1.0 को शुरू किए जाने के बाद इसके जरिये विमान यात्रियों की कई चिंताओं को दूर करने में मदद मिली है.