Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 11.12.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 11 Dec 2018

 11 दिसंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1687 - ईस्ट इंडिया कंपनी ने मद्रास (भारत)में नगर निगम बनाया।

1845 - प्रथम आंग्ल-सिख युद्ध शुरू।

1858 - बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय और यदुनाथ बोस कलकत्ताविश्वविद्यालय से कला विषय के पहले स्नातक बने।

1937 - यूरोपीय देश इटली मित्र राष्ट्र संघ से बाहर आया।

1941 - जर्मनी और इटली ने अमेरिका के खिलाफ युद्ध की घोषणा की थी। पहले इटली के शासक बेनिटो मुसोलिनी और फिर जर्मनी के तानाशाह एडोल्फ हिटलर ने ये घोषणा की।

1946 - डॉ. राजेन्द्र प्रसाद भारत की संविधान सभा के अध्यक्ष निर्वाचित हुए। यूरोपीय देश स्पेन को संयुक्त राष्ट्र से निलंबित किया गया।

1949 - खाशाबा जाधव - नागपुर की कुश्ती स्पर्धा में प्रतिस्पर्धी को मात्र पांच मिनट के भीतर ही चित कर दिया।

1960 - बाल विकास में लगी अंतरराष्ट्रीय संस्था यूनिसेफ़ के सम्मान में भी 15 नये पैसे का विशेष डाक टिकट जारी किया गया।

1964 - संयुक्त राष्ट्र के यूनिसेफ की स्थापना हुई।

1983 - जनरल एच.एम. इरशाद ने खुद को बांग्लादेश का राष्ट्रपति घोषित किया।

1994 - रूस के तत्कालीन राष्ट्रपति बोरिस येल्तसिन ने चेचेन विद्रोहियों पर हमला किया तथा उनके इलाके में सेना भेज दी।

1997 - ग्रीन हाउस देशों के उत्सर्जन में कटौती के लिए विश्व के सभी देश सहमत।

1998 - 23वें काहिरा अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोह में तमिल फ़िल्म 'टेररिस्ट' सर्वश्रेष्ठ भूमिका के लिए आयशा धारकर को ज्यूरी का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार प्रदान किया गया।

2002 - स्पेन के नौसैनिकों ने अरब सागर में उत्तर कोरिया के एक जहाज़ को पकड़ा, इसमें स्कड मिसाइलें लदी थीं।

2003 - मेरिदा में पहले भ्रष्टाचार निरोधक समझौते पर 73 देशों ने हस्ताक्षर किये।

2007 - उत्तर व दक्षिण कोरिया के मध्य 50 वर्ष बाद रेल सेवा पुन: प्रारम्भ।

11 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति 1810 - अल्फ्रेड डोमोसे - फ्रांस के प्रसिद्ध लेखक और कवि का पेरिस। 1882 - सुब्रह्मण्य भारती, तमिल कवि 1922 - दिलीप कुमार, हिन्दी फ़िल्म अभिनेता।

1931 - ओशो रजनीश - धार्मिक आन्दोलनकर्ता 1935 - प्रणव मुखर्जी, भारत के विदेशमंत्री और वित्त मंत्री और 25 जुलाई, 2012 से राष्ट्रपति।

1969 - विश्वनाथन आनंद, भारत शतरंज खिलाड़ी 1969 - ज्योतिर्मयी सिकदर - भारत की प्रसिद्ध महिला धाविकाओं में से एक हैं।

 

11 दिसंबर को हुए निधन

1938 - जगत नारायण मुल्ला - अपने समय में उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध वकील और प्रसिद्ध सार्वजनिक कार्यकर्ता।

1949 - कृष्णचन्द्र भट्टाचार्य - प्रसिद्ध दार्शनिक, जिन्होंने हिन्दू दर्शन पर अध्ययन किया।

2004 - एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी, कर्नाटक संगीत की प्रसिद्ध गायिका एवं अभिनेत्री 1998 - कवि प्रदीप, प्रसिद्ध कवि और गीतकार 2012- रवि शंकर - भारत रत्न सम्मानित प्रसिद्ध सितार वादक

11 दिसंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह (08-14 दिसम्बर)

हवाई सुरक्षा दिवस (सप्ताह) यूनीसेफ़ दिवस (विश्व बालकोष दिवस)

DEC 11, 2018 

 

भारत ने अंतरमहाद्विपीय बैलेस्टिक अग्नि-5 का 10 दिसंबर 2018 को सफल परीक्षण किया. यह परीक्षण दोपहर एक बजकर तीस मिनट पर किया गया है. यह इस मिसाइल का सातवां परीक्षण किया गया है.

 

5500 किलोमीटर तक मार करने वाली अग्नि-5 मिसाइल का यह परीक्षण ओडिशा के समुद्री तट पर किया गया. अग्नि-5 की मिसाइल की रेंज चीन, यूरोप और पाकिस्तान आ चुके हैं. अग्नि 5 तकनीक के मामले में भी अत्याधुनिक है क्योंकि इसमें नेवीगेशन, गाइडेंस, वॉरहेड और इंजन की अत्याधुनिक सुविधाएं हैं.

 

अग्नि-5 की विशेषताएं

 

  • अग्नि-5 की लंबाई 17.5 मीटर है, यह 2 मीटर चौड़ी है जबकि इसका वजन 50 टन है.

 

  • अग्नि-5 मिसाइल डेढ़ टन विस्फोटक ढोने की ताकत रखती है. इसकी गति ध्वनि की गति से 24 गुना अधिक है.

 

  • इससे पहले अग्नि-5 का सफल परीक्षण 2012, दूसरा 2013, तीसरा 2015, चौथा 2016, पांचवां जनवरी 2018, छठां जून 2018 एवं सातवां सफल परीक्षण अब किया गया है.

 

  • अग्नि-5 मिसाइल 3 चरणों में मार करने वाली मिसाइल है.

 

  • इस मिसाइल को लक्ष्य बिंदु को सटीकता से भेदने के लिए डिजाइन किया गया है. यह मिसाइल उसमें लगे कंप्यूटर से निर्देशित होगा.

 

  • पृथ्वी और धनुष जैसी कम दूरी तक मार करने में सक्षम मिसाइल के अलावा भारत के मिसाइल बेड़े में अग्नि 1, अग्नि-2 और अग्नि-3 मिसाइल भी हैं.

 

टिप्पणी

 

ऐसा माना जाता है कि भारत द्वारा अग्नि 1, अग्नि-2 और अग्नि-3 मिसाइलों को पाकिस्तान को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है जबकि अग्नि-4 एवं अग्नि-5 मिसाइल को चीन को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है. भारत के अग्नि 5 विकसित करने से यह मिसाइल उत्तरी चीन के लक्ष्य को भेदने में सक्षम बतायी गई है. इससे भारत इंटर कंटीनेन्टल बैलेस्टिक मिसाइल रखने वाले सुपर एक्सक्लूसिव क्लब में शामिल हो चुका है.GORKY BAKSHI  DEC 11, 2018 10:05 IST

 

 

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा चार मेडिकल उपकरणों को दवा की श्रेणी में रखा गया

 

केन्द्रीय स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा हाल ही में जारी अधिसूचना के तहत चार मेडिकल उपकरणों को दवा की श्रेणी में शामिल किया गया है. इस अधिसूचना के तहत ब्लड प्रेशर मॉनिटर, नेब्युलाईज़र, डिजिटल थर्मामीटर तथा ग्लूकोमीटर को दवाओं की श्रेणी में रखा गया है.

 

मंत्रालय द्वारा इन चारों उपकरणों को ड्रग्स एंड कास्मेटिक अधिनियम-1940 के तहत दवा की श्रेणी में शामिल किया गया है. इस निर्णय से इन उपकरणों की गुणवत्ता और कार्य सुनिश्चित किया जा सकेगा. भारतीय दवा महा नियंत्रक जनवरी, 2020 से इन उपकरणों के आयात, विनिर्माण तथा बिक्री को रेगुलेट करेंगे.

 

प्रमुख तथ्य

 

  • एक जनवरी, 2020 से इन उपकरणों का निर्माण अथवा आयात करने वाली कम्पनियों को हैं इन उपकरणों के लिए जरुरी अनुमति प्राप्त करनी होगी.

 

  • इन सभी उपकरणों को मेडिकल उपकरण नियम, 2017 में बताये गये गुणवत्ता मानकों के तहत पंजीकृत कराना होगा.

 

  • इन चार उपकरणों के साथ अब दवा की श्रेणी में रखी गयी उपकरणों की कुल संख्या बढ़कर 27 हो गयी है.

 

  • अब तक 23 मेडिकल उपकरणों की गुणवत्ता की देख-रेख डीजीसीआई द्वारा की जाती थी.

 

  • अन्य मेडिकल उपकरण गुणवत्ता परीक्षण तथा क्लिनिकल ट्रायल के बिना बेचे जाते हैं.

 

  • इससे पहले ड्रग टेक्निकल एडवाइजरी बॉडी ने इन चार उपकरणों को दवा की श्रेणी में शामिल करने के प्रस्ताव को मंज़ूरी दी थी.

 

भारतीय दवा महानियंत्रक

 

  • केन्द्रीय दवा मानक नियंत्रक संगठन के अंतर्गत भारतीय दवा महानियंत्रक विशिष्ट श्रेणी की दवाओं के लिए लाइसेंस को मंज़ूरी प्रदान करता है.

 

  • डीजीसीआई भारत में दवा के उत्पादन, बिक्री, आयात तथा वितरण इत्यादि के लिए मानक तथा गुणवत्ता तय करता है.

 

  • यह भारत में दवा की गुणवत्ता से संबधित विवाद के लिए अपीलीय प्राधिकरण का कार्य करता है.

No comments yet...

Leave your comment

31439

Character Limit 400