Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 09.12.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 10 Dec 2018

9 दिसंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1625 - हालैंड और इंग्लैंड के बीच सैन्य संधि पर हस्ताक्षर।

1762 - ब्रिटिश संसद ने पेरिस संधि को स्वीकार किया।

1873 - हिज एक्सेलेंसी जार्ज बैरिंग वायसराय तथा भारत के गवर्नर जनरल ने 'म्योर कॉलेज' की आधारशिला रखी।

1898 - बेलूर मठ की स्थापना।

1910 - फ्रांसीसी सेनाओं ने मोरक्को के बंदरगाह शहर अगादीर पर कब्जा किया।

1917 - जनरल अलेनबाय के नेतृत्व में ब्रिटिश सेना ने यरुशलम पर कब्जा किया।

1924 - हालैंड और हंगरी के बीच व्यापार संधि पर हस्ताक्षर।

1931 - जापानी सेना ने चीन के जेहोल प्रांत पर हमला किया।

1941 - चीन ने जापान, जर्मनी और इटली के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।

1946 - संविधान सभा की पहली बैठक नयी दिल्ली के कांस्टीट्यूनल हॉल में हुई।

1992 - प्रिंस चार्ल्स और प्रिंसेस डायना ने अलग होने की औपचारिक रूप से घोषणा की।

1998 - रूस द्वारा आर्कटिक सागर में अपक्रांतिक परमाणु परीक्षण किया गया, आस्ट्रेलियाई क्रिकेट खिलाड़ियों शेन वार्न और मार्क वॉ ने एक भारतीय सट्टेबाज़ से 1994 में पाकिस्तान दौदे पर रिश्वत लेने की बात स्वीकारी। 2000 - दक्षिण कोरिया का दर्जा विकासशील देश से बढ़कर विकसित देश किया गया।

2001 - यूनाइटेड नेशनल पार्टी के नेता रानिल विक्रमसिंघे ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली; तालिबान में नार्दन एलांयस का विमान दुर्घटनाग्रस्त, 21 मरे।

2002 - जॉन स्नो अमेरिका के नये वित्तमंत्री बने।

2003 - रूस में मास्को के मध्य भाग में विस्फोट से छह लोगों की मौत और कई घायल।

2006 - पाकिस्तान ने परमाणु क्षमता युक्त मध्यम दूरी के प्रक्षेपास्त्र 'हत्फ़-3 ग़ज़नवी' का परीक्षण किया।

2007 - पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो ने पाकिस्तानी सरकार के साथ अपने सभी सम्बन्ध समाप्त करने की घोषणा की।

2008- इसरो ने यूरोप के प्रसिद्ध उपग्रह प्रणाली विशेषज्ञ ईएडीएम एस्ट्रीयस के लिए सेटेलाइट का निर्माण किया। 2011- आग की लपटों और ज़हरीले धुएं से घिरे कोलकाता के एएमआरआई (आमरी) अस्पताल में 'रम्या राजन' और 'पी.के. विनीथा' ने मानवता और बहादुरी की अतुलनीय मिसाल पेश की। अपनी जान की परवाह न करते हुए दोनों ने आठ मरीज़ों को सुरक्षित निकाल लिया, पर एक अन्य मरीज़ को बचाने के प्रयास में उनकी मौत हो गई। 2012 - मेक्सिको में विमान दुर्घटनाग्रस्त होने से सात लोगों की मौत।

2013 - इंडोनेशिया में बिनटारो के समीप ट्रेन हादसे में सात की मौत और 63 घायल। 9 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति 1484 - संत सूरदास - महान् कवि।

1825 - राव तुला राम - सिपाही विद्रोह के एक प्रमुख नायक हरियाणा के रेवाड़ी जिले।

1870 - डाॅ. अाई एस श्रुधर का वेल्लोर के अस्पताल।

1889 - चन्द्रनाथ शर्मा - असम राज्य के प्रथम असहयोगी और असम में कांग्रेस के संस्थापकों में से एक।

1913 - होमाई व्यारावाला - भारत की प्रथम महिला फ़ोटो पत्रकार।

1918 - कुशवाहा कान्त - भारत के जाने-माने उपन्यासकार और नाटककार।

1929 - रघुवीर सहाय, हिन्दी के साहित्यकार व पत्रकार।

1945 - शत्रुघ्न सिन्हा - हिन्दी फ़िल्मों की प्रसिद्ध अभिनेता।

1946 - सोनिया गाँधी - प्रसिद्ध भारतीय राजनीतिज्ञ एवं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी की पत्नी।

1961 - आदित्य चौधरी - 'भारतकोश' (www.bharatkosh.org) और 'ब्रजडिस्कवरी' (www.brajdiscovery.org) के संस्थापक एवं प्रधान सम्पादक हैं

 

9 दिसंबर को हुए निधन

1761 - ताराबाई - शिवाजी की पुत्री का पुणे।

1997 - के शिवराम कारंत कन्नड़ भाषा के विख्यात साहित्यकार 2007 - त्रिलोचन शास्त्री - प्रगतिशील काव्य धारा के प्रसिद्ध कवि।

2009 - उस्ताद हनीफ मोहम्मद खाँ, भारतीय तबला वादक 1983 - शाह नवाज़ ख़ान - 'आज़ाद हिन्द फ़ौज' के अधिकारी थे।

1971 - महेन्द्रनाथ मुल्ला - भारतीय नौसेना के जांबाज अफसरों में एक।

 

9 दिसंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

बालिका दिवस (भारत) अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह (08-14 दिसम्बर)

 

इतिहास में पहली बार नासा का ओसीरिस-रेक्स यान क्षुद्रग्रह बेन्नू पर पहुंचा

 

नासा का महत्वकांक्षी यान ओसीरिस-रेक्स (OSIRIS-Rex) 03 दिसंबर 2018 को लगभग दो वर्ष की यात्रा के बाद क्षुद्र ग्रह (asteroid) बेन्नू पर पहुंचा. ओसीरिस-रेक्स ने यहां पहुंच कर हीरे के आकार की एक चट्टान का चित्र लिया तथा उसे धरती पर भेजा.

यह अंतरिक्ष यान आने वाले दिनों में 31 दिसंबर तक को बेन्नू की कक्षा के चारों ओर चक्कर लगाएगा. गौरतलब है कि अभी तक कोई भी अंतरिक्ष यान इस तरह के एक छोटे से क्षुद्रग्रह की कक्षा तक नहीं पहुँच पाया है. वैज्ञानिकों के अनुसार, बेन्नू एक खगोलीय समय कैप्सूल के समान है.

 

 क्षुद्र ग्रह किसे कहते हैं?

मंगल और बृहस्पति की कक्षाओं के मध्य सूर्य की परिक्रमा करने वाले छोटे-छोटे पिंडों को क्षुद्र ग्रह कहा जाता है. अनियमित आकार वाले ये क्षुद्र ग्रह सूर्य की परिक्रमा दीर्घवृत्तीय कक्षा में करते हैं. क्षुद्र ग्रह निर्माणकारी तत्त्वों के अवशेष हैं जिनमें जल, कार्बनिक तत्त्व, धातुएँ आदि प्राकृतिक संसाधन निहित होते हैं. बेन्नू भी एक क्षुद्र ग्रह है जिसे ‘1999 RQ36’ के नाम से भी जाना जाता है.

 

इस मिशन से जुड़े मुख्य बिंदु

  • किसी भी क्षुद्र ग्रह के नमूने को एकत्रित कर पृथ्वी पर भेजने और लौटने लौटने के लिये अमेरिका द्वारा किया गया पहला प्रयास है. इससे पूर्व केवल जापान ने इस क्षेत्र में प्रयास किये हैं.
  • वर्ष 2020 में वैज्ञानिक इस यान द्वारा जुटाए गए नमूने एकत्र करेंगे और 2023 तक यह पृथ्वी पर लौट आएगा.
  • वैज्ञानिक, बेन्नू जैसे कार्बन समृद्ध क्षुद्र ग्रह की सामग्री का अध्ययन करने के लिये उत्सुक हैं, जो 4.5 अरब साल पहले हमारे सौर मंडल की शुरुआती निर्माण का प्रमाण है.
  • हाल ही में जापानी अंतरिक्ष यान ‘रायगुके बारे में भी घोषणा की गई है जो जून के बाद क्षुद्र ग्रहों के नमूने एकत्रित करने के लिये पृथ्वी से रवाना होगा. यह जापान का दूसरा क्षुद्र ग्रह मिशन है.

 

 

ओसीरिस-रेक्स के बारे में जानकारी

  • नासा द्वारा फ्लोरिडा के केप केनेवरल एयरफोर्स स्टेशन से 8 सितंबर 2016 को अंतरिक्ष यान ओसीरिस-रेक्स को एटलस-यू रॉकेट से प्रक्षेपित किया गया.
  • इस अंतरिक्ष यान का निर्माण लॉकहीड मार्टीन स्पेस सिस्टम्स द्वारा किया गया है.
  • ओसीरिस-रेक्स का पूरा नाम-ओरिजिंस, स्पेक्ट्रल इंटरप्रीटेशन, रिसोर्स आईडेंटीफिकेशन, सिक्योरिटी-रेगोलिथ एक्सफ्लोरर एस्टेरॉयड सैंपल रिटर्न मिशन है.
  • नासा के इस अंतरिक्ष मिशन के द्वारा पृथ्वी के समीप के क्षुद्रग्रह बेन्नू से नमूने का संग्रहण एवं उनका अध्ययन किया जाएगा.

No comments yet...

Leave your comment

46274

Character Limit 400