Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 08.12.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 08 Dec 2018

8 दिसंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1863 - चीली की राजधानी सेंटियागो स्थित जेसूइट गिरजाघर में आग लगने से ढाई हजार लोगों की मौत।

1881 - यूरोपीय देश आॅस्ट्रिया की राजधानी विएना में थियेटर में आग लगने से 800 से ज्यादा लोगों की मौत। 1923 - जर्मनी और अमेरिका के बीच मित्रता संधि पर हस्ताक्षर किए गये।

1941 - अमेरिका अौर ब्रिटेन ने जापान के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।

1956 - आस्ट्रेलिया के मेलबर्न शहर में सोलहवें ओलंपिक खेल का समापन।

1967 - पहले पनडुब्बी आईएनएस कालवरी को सेना में शामिल किया गया।

1976 - अमेरिका ने नेवादा में परमाणु परीक्षण किया।

1995 - चीन द्वारा विवादास्पद रूप से 6 वर्षीय बालक झेनकेन नोरबू की पंचेन लामा के अवतार के रूप में ताजपोशी एवं मान्यता।

1998 - पूर्व लेफ़्टिनेंट कर्नल ह्यूगो शावेज वेनेजुएला के नये राष्ट्रपति बने। ओलंपिक के इतिहास में पहली बार महिला आइस हॉकी शामिल गया था। फिनलैंड ने पहले मुकाबले में स्वीडन को 6-0 से हराया।

2000 - ब्रिटेन और रूस के बीच रक्षा समझौता सम्पन्न, फ़्रांस के वैज्ञानिकों ने अल्जाईमर का नया उपचार 'गोलनेटमाइन' खोजा। युगांडा में खतरनाक इबोला वायरस के पीड़ितों की संख्या 400 के पार पहुंची जिसमें 160 लोगों की मौत हो गयी।

2002 - भारत की पारम्परिक जैव सम्पदा नीम, हल्दी और जामुन के बाद गौमूत्र को संयुक्त राज्य अमेरिका ने पेटेंट किया। पूर्वी नेपाल नक्सलियों ने बम से हमला कर एक बस को उड़ा दिया जिसमें पांच व्यक्ति मारे गए और 30 से ज्यादा घायल हो गए।

2003 - निलम्बन की अवधि बढ़ाये जाने के बाद जिम्बाव्वे ने राष्ट्रकुल से अपने को अलग करने की घोषणा की। वसुन्धरा राजे सिंधिया राजस्थान के मुख्यमंत्री पद पर आसीन उमा भारती मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद पर आसीन 2004 - पाकिस्तान ने 700 कि.मी. की दूरी तक मार करने वाली शाहीन-1 मिसाइल का सफल परीक्षण किया।

2005 - रेडक्रास और रेड क्रीसेंट सोसाइटी ने सफ़ेद पृष्ठभूमि में हीरे के आकार के एक लाल क्रिस्टल को नये अतिरिक्त चिह्न के रूप में स्वीकार किया।

2007 - अमेरिका के नेतृत्व वाली गठबन्धन सेना और नाटो की सेनाओं ने दक्षिणी अफ़ग़ानिस्तान के मूसा कला ज़िले में तालिबानी आतंकवादियों पर हमले किये।

 8 दिसंबर को जन्मे व्यक्ति

1721 - बालाजी बाजीराव - मराठा साम्राज्य का प्रसिद्ध पेशवा।

1875 - तेज बहादुर सप्रू - महान् उदारवादी नेता का अलीगढ़।

1877 - नारायण शास्त्री मराठे - प्रसिद्ध मराठी विद्वान।

1897 - बालकृष्ण शर्मा नवीन - हिन्दी जगत् के कवि, गद्यकार और अद्वितीय वक्ता।

1900 - उदय शंकर - भारत के प्रसिद्ध शास्त्रीय नृत्य के नर्तक, नृत्य निर्देशक और और बैले निर्माता।

1927 - प्रकाश सिंह बादल - पंजाब के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं।

1935 - धर्मेन्द्र - भारतीय अभिनेता 1946 - शर्मिला टैगोर - भारतीय अभिनेत्री 1901 - अमरनाथ विद्यालंकार - भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सेनानी, पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता तथा सांसद थे।

 

8 दिसंबर को हुए निधन

1947- भाई परमानन्द - भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महान् क्रांतिकारी 2015 - रमाशंकर यादव 'विद्रोही' - जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों के बीच लोकप्रिय रहे जनकवि थे।

2002 - श्रीपति मिश्रा - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में से एक थे।

 

8 दिसंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय संगठन दिवस अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह (08-14 दिसम्बर)

 

टॉप कैबिनेट मंजूरी: 08 दिसंबर 2018

 

मंत्रिमंडल ने ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में भारत तथा फ्रांस के बीच समझौता ज्ञापन को स्वीकृति दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को ऊर्जा सक्षमता/ ऊर्जा संरक्षण के क्षेत्र में भारत तथा फ्रांस के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया. इस समझौता पर 17 अक्टूबर 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे.

 

  • समझौता ज्ञापन विज्ञान और प्रौद्योगिकी समझौता है, जिसमें केवल तकनीकी सहायता में ज्ञान का आदान-प्रदान और सहयोग शामिल है. यह समझौता ज्ञापन ऊर्जा सक्षमता बढ़ाने तथा मांग प्रबंधन से संबंधित नीतियों, कार्यक्रमों और • टेक्नोलॉजी पर सूचना के आदान-प्रदान को प्रोत्साहित करेगा.

 

  • इस समझौता ज्ञापन से ऊर्जा सक्षमता के बारे में जागरूकता पैदा होगी. इससे सीओ2 उत्सर्जनों तथा आईएनडीसी के लिए वैश्विक उत्सर्जन की निगरानी के लिए जीएचजी डाटा के संग्रहण, उपयोग तथा विश्लेषण के लिए तंत्र विकसित होंगे.

 

  • समझौता ज्ञापन अनुसंधान और विकास तथा ऊर्जा सक्षम प्रौद्योगिकी के प्रदर्शन को प्रोत्साहित करेगा. इससे इलेक्ट्रिक परिवहन पर विशेष फोकस के साथ सतत विकास होगा.

 

 

मंत्रिमंडल ने जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में संशोधन को मंजूरी दी

  • इस निर्णय का लक्ष्य जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में समुचित संशोधन करना है, ताकि न्यासियों के रूप में प्रतिनिधित्व हो सके. संशोधन इस प्रकार है : लोकसभा में मान्य नेता प्रतिपक्ष या जब नेता प्रतिपक्ष न हो, तब की स्थिति में सदन में सबसे बड़े विपक्षी दल का नेता.
  • मौजूदा अधिनियम में सबसे बड़े राष्ट्रीय राजनीतिक दल के प्रतिनिधित्व के लिए प्रावधान है. न्यास से दल विशेष के सदस्य को हटाने से न्यास गैर-राजनीतिक हो जाएगा. प्रस्तावित संशोधन के तहत न्यास में विपक्षी दल के प्रतिनिधित्व को सुनिश्चित किया गया है.
  • प्रस्तावित संशोधन से सरकार को न्यास के कामकाज में हिस्सा लेने या किसी अन्य कारण से न्यासी को हटाने या उसे बदलने का अधिकार प्राप्त हो जाएगा.

 

 

मंत्रिमंडल ने अंतरिक्ष विज्ञान, टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशन के क्षेत्र में सहयोग पर भारत तथा अल्जीरिया के बीच समझौता को स्वीकृति दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को अंतरिक्ष विज्ञान, टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशन के क्षेत्र में सहयोग पर भारत तथा अल्जीरिया के बीच समझौता से अवगत कराया गया. इस समझौता पर बेंगलुरू में 19 सितम्बर 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे.
  • यह समझौता पृथ्वी के दूर संवेदी, सेटेलाइट संचार, सेटेलाइट आधारित नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रणालियों और ग्राउंड सिस्टम, अंतरिक्ष टेक्नोलॉजी ऐप्लीकेशन सहितअंतरिक्ष विज्ञान टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशनों में सहयोग की संभावनाओं में सहायक होगा.
  • इस समझौता से भारत और अल्जीरिया के बीच सहयोग में मजबूती आएगी और दूर संवेदी, सेटेलाइट नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा बाह्य अंतरिक्ष की खोज के क्षेत्र में नई अनुसंधान गतिविधियों तथा ऐप्लीकेशन संभावनाओं को बल मिलेगा.

 

 

मंत्रिमंडल ने पर्यावरण सहयोग के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच सहयोग ज्ञापन को मंजूरी दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और जापान के बीच सहयोग ज्ञापन को कार्योत्तर मंजूरी दी है. इस सहयोग ज्ञापन पर 29 अक्टूबर 2018 को भारतीय प्रधानमंत्री की जापान यात्रा के दौरान हस्ताक्षर किए गए थे.
  • यह सहयोग ज्ञापन प्रत्येक देश के उपयुक्त कानूनों और कानूनी प्रावधानों को ध्यान में रखते हुए समानता, पारस्परिकता और आपसी लाभ के आधार पर प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंधन और पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच नजदीकी और दीर्घकालिक सहयोग स्थापित करने और प्रोत्साहित करने को सक्षम करेगा.
  • इसके अलावा इस सहयोग ज्ञापन में दोनों देशों के बीच सूचना और प्रौद्योगिकी का आदान प्रदान करना भी शामिल है. पर्यावरण संबंधी गिरावट का असर समाज के समृद्ध वर्गों से कहीं अधिक कठोरता से सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित वर्गों पर होता है.
  • पर्यावरण नुकसान को रोकने की कोई भी कोशिश समाज के सभी वर्गों के बीच अच्छे पर्यावरण संबंधी संसाधनों की उपलब्धता के लिहाज से पर्यावरण संबंधी समानता की दिशा में ले जाएगी. इस सहयोग ज्ञापन से उम्मीद है कि ये बेहतर पर्यावरण सुरक्षा, बेहतर संरक्षण, जलवायु परिवर्तन के बेहतर प्रबंधन और जैव विविधता संरक्षण के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकियों और सर्वश्रेष्ठ अभ्यासों को लाएगा.

 

 मंत्रिमंडल ने संयुक्त डाक टिकट जारी करने पर भारत और आर्मेनिया के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को संयुक्त डाक टिकट जारी करने के बारे में भारत और आर्मेनिया के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया. समझौता ज्ञापन पर जून 2018 में हस्ताक्षर किए गए थे.

 

  • समझौता ज्ञापन के अनुसार संचार मंत्रालय का डाक विभाग और आर्मेनिया का राष्ट्रीय डाक संचालक (‘हे पोस्टसीजेएससी) पारस्परिक रूप से नृत्य विषय पर संयुक्त डाक टिकट जारी करने पर सहमत हुए हैं.

 

  • संयुक्त डाक टिकट अगस्त 2018 में जारी किए गए थे. स्मृति डाक टिकटों में भारत के मणिपुरी नृत्य तथा आर्मेनिया के हौब एरेक नृत्य दिखाए गए हैं.

 

 

मंत्रिमंडल ने डाक क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और जापान के बीच सहयोग-समझौते को मंजूरी दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल ने डाक क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और जापान के बीच सहयोग-समझौते को मंजूरी दे दी. इस सहयोग समझौते के तहत दोनों देशों के बीच डाक सेवाओं में सुधार होगा और डाक क्षेत्र में सहयोग बढ़ेगा.
  • इस सहयोग समझौते के तहत भारत और जापान के बीच डाक सेवाओं में सुधार होगा और डाक क्षेत्र में सहयोग बढ़ेगा तथा डाक नीति के संबंध में दोनों पक्ष अपने अनुभवों के आधार पर सूचनाएं साझा करेंगे और नजरियों का आदान-प्रदान करेंगे.
  • दोनों पक्षों द्वारा आपस में तय किए जाने वाले विशेष क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए डाक सेवा संवाद की स्थापना होगा. इस समझौते से भारत और जापान के बीच सहयोग बढ़ेगा और इस तरह दोनों देशों की डाक गतिविधियों को फायदा पहुंचेगा.

 

 

मंत्रिमंडल ने मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम के अंतर्गत संयुक्त गतिविधियों पर भारत और रूस के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम के अंतर्गत भारत और रूस के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया. इस समझौता ज्ञापन पर नई दिल्ली में 15 अक्टूबर 2015 को हस्ताक्षर किया गया था.
  • समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर से भारत और रूस के बीच सहयोग मजबूत होगा और रेडियेशन शिल्डिंग, लाइफ स्पोर्ट सिस्टम, क्रू मॉड्यूल, समागम स्थल तथा डॉकिंग प्रणाली, अंतरिक्ष कक्ष, अंतरिक्ष यात्रियों के लिए प्रशिक्षण जैसे मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम के लिए टेक्नोलॉजी तथा अग्रिम प्रणालियां विकसित करने के काम को गति मिलेगी.

 

  • इस समझौते से मानवता के लाभ के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी टेक्नोलाजी के ऐप्लीकेशन के क्षेत्र में संयुक्त गतिविधियां बढ़ेंगी. इससे एक संयुक्त कार्य समूह बनेगा जो समझौता के प्रावधानों को लागू करने की समय सीमा तथा उपायों सहित कार्य योजना तैयार करेगा.

 

 

मंत्रिमंडल ने बाह्य अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण इस्तेमाल के लिए भारत तथा मोरक्को के बीच समझौता को स्वीकृति दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को बाह्य अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण इस्तेमाल के लिए भारत तथा मोरक्को के बीच समझौता से अवगत कराया गया. इस समझौता पर बेंगलुरू में 19 सितम्बर 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे.
  • यह समझौता पृथ्वी के दूर संवेदी, सेटेलाइट संचार, सेटेलाइट आधारित नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा ग्रहों की खोज, अंतरिक्ष विज्ञान और अंतरिक्ष प्रणालियों और ग्राउंड सिस्टम, अंतरिक्ष टेक्नोलॉजी ऐप्लीकेशन सहितअंतरिक्ष विज्ञान टेक्नोलॉजी तथा ऐप्लीकेशनों में सहयोग की संभावनाओं में सहायक होगा.
  • इस समझौता से एक संयुक्त कार्य समूह बनेगा जो इस समझौता को लागू करने की समय सीमा और उपायों सहित एक कार्य योजना तैयार करेगा. कार्य समूह में डीओएस/ इसरो तथा रॉयल सेंटर फॉर रिमोट सेंसिंग (सीआरटीएस) तथा रॉयल सेंटर फॉर स्पेस रिसर्च एंड स्टडीज (सीआरईआरएस) के सदस्य होंगे.
  • मोरक्को ने वर्ष 1990 के प्रारंभ में अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत के साथ सहयोग के लिए दिलचस्पी व्यक्त की थी. वर्ष 1998 में इसरो तथा सेंटर रॉयल डी टेले स्पेशियल (सीआरटीएस-रॉयल सेंटर फॉर रिमोट सेंसिंग) ने प्रारूप काआदान-प्रदान किया और 1998 में अंतरिक्ष सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर पारस्परिक सहमति व्यक्त की.

 

 

मंत्रिमंडल ने बाह्य अंतरिक्ष के उपयोग में सहयोग पर भारत तथा उज्बेकिस्तान के बीच समझौता को स्वीकृति दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को बाह्य अंतरिक्ष की खोज तथा शांतिपूर्ण उद्देश्य के लिए बाह्य अंतरिक्ष के उपयोग में सहयोग पर भारत तथा उज्बेकिस्तान के बीच समझौता के बारे में अवगत कराया गया. इस समझौता पर एक अक्टूबर 2018 को नई दिल्ली में उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति की भारत यात्रा के दौरान हस्ताक्षर किया गया था.

 

  • यह समझौता भारत और उज्बेकिस्तान के बीच सहयोग को मजबूत बनाएगा और दूर संवेदी, सेलेटाइट संचार, सेटेलाइट नैविगेशन, अंतरिक्ष विज्ञान तथा बाह्य अतंरिक्ष की खोज के क्षेत्र में नई शोध गतिविधियां तथा ऐप्लीकेशन संभावनाओं में तेजी लाएगा.

 

  • इस समझौते से मानवता के लाभ के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी ऐप्लीकेशन के क्षेत्र में संयुक्त गतिविधियां बढ़ेंगी. इस समझौता से संयुक्त कार्य समूह बनेगा जो समझौता के प्रावधानों को लागू करने की समय सीमा तथा उपायों सहित कार्य योजना तैयार करेगा.

 

 मंत्रिमंडल ने पृथ्वी विज्ञान में वैज्ञानिक तथा तकनीकी सहयोग पर भारत तथा अमेरिका के बीच समझौता ज्ञापन को स्वीकृति दी

 

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल को पृथ्वी विज्ञान में वैज्ञानिक तथा तकनीकी सहयोग पर भारत तथा अमेरिका के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया. इस समझौता पर एक नवम्बर 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे.

 

  • भारत और अमेरिका के बीच सहयोग से दोनों देशों के संगठनों के पास उपलब्ध विशेषज्ञता साझा करने में मदद मिलेगी और पृथ्वी विज्ञान के क्षेत्र में अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी अपनाई जा सकेगी.

 

  • सहयोग के विशेष क्षेत्रों में ईको प्रणालियां, जलवायु अस्थिरता तथा भूमि उपयोग परिवर्तनों, ऊर्जा, खनिज संपदा, पर्यावरण, प्राकृतिक संकटों, जोखिम तथा मूल्यांकन दृढ़ता, जल संसाधन, इन्फोर्मेटिक्स तथा डाटा एकीकरण के क्षेत्र शामिल हैं.

 

  • इस समझौता ज्ञापन के अंतर्गत तकनीकी सूचना के आदान-प्रदान, यात्राओं, प्रशिक्षण तथा इन क्षेत्रों में दोनों देशों में जारी अनुसंधान कार्यक्रमों के माध्यम से सहयोग किये जाएंगे.

 

  

मंत्रिमंडल ने भारत सरकार की वर्तमान 52.63 प्रतिशत हिस्सेदारी की रणनीतिक बिक्री विद्युत वित्त निगम को प्रबंधन नियंत्रण के साथ करने की सद्धांतिक मंजूरी दी

 

  • मंत्रिमंडलीय आर्थिक समिति ने सिद्धांत रूप से ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आरईसी) में भारत सरकार की 52.63 प्रतिशत हिस्सेदारी की रणनीतिक बिक्री विद्युत वित्त निगम (पीएफसी) को प्रबंधन नियंत्रण के साथ करने की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है.

 

  • इस अधिग्रहण का उद्देश्य विद्युत श्रृंखला को एकीकृत करना, बेहतर तालमेल बनाना, व्यापक आर्थिक आकार का सृजन और वित्त विद्युत क्षेत्र की क्षमता में सुधार करके ऊर्जा पहुंच और सक्षमता के लिए क्षमता में वृद्धि करना है. आरईसी और पीएफसी विद्युत मंत्रालय के अंतर्गत केंद्रीय सार्वजनिक प्रतिष्ठान हैं.

No comments yet...

Leave your comment

65734

Character Limit 400