Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affairs 06.11.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 06 Nov 2018

6 नवंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

1763 - ब्रिटिश फौज ने मीरकासिम को हराकर पटना पर कब्जा किया।

1813 - मैक्सिको ने स्पेन से स्वतंत्रता हासिल की।

1844 - स्पेन ने डाेमिनिकन गणराज्य को स्वतंत्र किया।

1860 - अब्राहम लिंकन अमेरिका के साेलहवें राष्ट्रपति चुने गए।

1903 - अमेरिका ने पनामा के स्वतंत्रता को मान्यता प्रदान की।

1913 - दक्षिण अफ्रीका में भारतीय खनन मजदूरों की रैली का नेतृत्व करने के लिए महात्मा गांधी को गिरफ्तार किया गया।

1943 - दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जापान ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को अंडमान और निकोबार द्वीप समूह सौंपे।

1949 - यूनान में गृह युद्ध समाप्त हुआ।

1962 - राष्ट्रीय रक्षा परिषद की स्थापना हुई।

1990 - नवाज शरीफ़ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बने।

1994 - अफ़ग़ानिस्तान के बुरहानुद्दीन रब्बानी गुट द्वारा संयुक्त राष्ट्र अफ़ग़ान शांति योजना स्वीकृत।

1998 - सियाचिन में युद्धविराम का भारत का प्रस्ताव पाकिस्तान को नामंजूर।

2000 - ज्योति बसु ने लगातार 23 वर्षों तक पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री रहने के बाद पद छोड़ा।

2004 - रूस ने क्योटो करार की पुष्टि की।

2008 - स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने प्रधान ब्याज दर (जीएलआर) और जमादारों के कटौती की घोषणा की।

2013 - सीरिया के दमस्कस में आत्मघाती विस्फोट में आठ मरे, 50 घायल। इराक की राजधानी बगदाद में आत्मघाती हमला, 15 मरे।

2013- महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर और वैज्ञानिक प्रो. सीएनआर राव को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारत रत्न' देने की घोषणा की गई।

 

6 नवंबर को जन्मे व्यक्ति

1937 - यशवंत सिन्हा लोकसभा सदस्य 6 नवंबर को हुए निधन

2010 - सिद्धार्थ शंकर राय - पश्चिम बंगाल के भूतपूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता थे।

1985 - संजीव कुमार, हिन्दी फ़िल्म अभिनेता।

 

6 नवंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव

अंतर्राष्ट्रीय रेड क्रास दिवस (सप्ताह)

 

आईआईटी मद्रास ने भारत का पहला स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसरशक्तितैयार किया

 

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास ने भारत का पहला स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर विकसित और डिजाईन किया है. इस माइक्रोप्रोसेसर को ‘शक्ति’ नाम दिया गया है.

यह स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर जल्द मोबाइल फोन, सर्विलांस कैमरा और स्मार्ट मीटर्स को ताकत देने में सहायता करेगा. इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन, चंडीगढ़ की सेमी कंडक्टर लैब में माइक्रोचिप के साथ इसे बनाया गया है..

स्वदेशी माइक्रोप्रोसेसर के बारे में

  •   आईआईटीएम की राइज लैब के लीड रिसर्चर प्रफेसर कामकोटी वीजीनाथन का कहना है कि वर्तमान डिजिटल इंडिया में बहुत सारी एप्स को कस्टमाइज्ड प्रोसेसर कोर की आवश्यकता रहती है.
  •   हमारे नए डिजाइन के साथ ये सभी चीजें काफी आसान हो जाएंगी.
  •   इससे आयात की गई माइक्रो चिप पर निर्भरता कम होगी. साथ ही इन माइक्रो चिप की वजह से होने वाले साइबर अटैक का खतरा भी कम होगा.
  •   सभी कंप्यूटिंग और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का मस्तिष्क ऐसे कई माइक्रोप्रोसेसरों से जुड़ा है, जो उच्च गति प्रणालियों और सुपर कंप्यूटरों को संचालित करने के लिए उपयोग किए जाते हैं.
  • जुलाई में आईआईटी मद्रास के शुरुआती बैच ने 300 चिप डिजाइन की थी, जिन्हें अमेरिका के ऑरेगन में इंटेल की फैसिलिटी में जोड़ा गया था. 
  •   अब यह देश में ही तैयार किया गया माइक्रो प्रोसेसर पूरी तरह भारतीय है. 
  •   भारत में बना माइक्रोप्रोसेसर 180 एनएम का है, जबकि अमेरिका में बना प्रोसेसर 20 एनएम का है.

    माइक्रोप्रोसेसर क्या होता है?

    माइक्रोप्रोसेसर एक ऐसी डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक युक्ति है जिसमें लाखों ट्रांजिस्टरों को एकीकृत परिपथ (इंटीग्रेटेड सर्किट या आईसी) के रूप में प्रयोग कर तैयार किया जाता है. इससे कंप्यूटर के केन्द्रीय प्रक्रमण इकाई (सीपीयू) की तरह भी काम लिया जाता है. इंटीग्रेटेड सर्किट के आविष्कार से ही आगे चलकर माइक्रोप्रोसेसर के निर्माण का रास्ता खुला था. माइक्रोप्रोसेसर के अस्तित्व में आने के पूर्व सीपीयू अलग-अलग इलेक्ट्रॉनिक अवयवों को जोड़कर बनाए जाते थे या फिर लघुस्तरीय एकीकरण वाले परिपथों से. सबसे पहला माइक्रोप्रोसेसर 1970 में बना था.

 

 परमाणु पनडुब्बी अरिहंत ने पहला गश्ती अभियान सफलतापूर्वक पूरा किया

 

भारत की सामरिक परमाणु पनडुब्बी अर्थात् न्यूक्लियर पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत ने 05 नवंबर 2018 को अपना पहला गश्ती अभियान सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मौके पर न्यूक्लियर पनडुब्बी आईएनएस अरिहन्त के अधिकारियों और कर्मियों से मुलाकात की.

पनडुब्बी अरिहंत के इस अभ्यास से भारत के नाभिकीय त्रिकोण की पूर्ण स्थापना हुई. इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा इस मौके पर मैं आईएनएस अरिहंत के क्रू और उन सभी को बधाई देता हूं जो उस काम में शामिल रहे हैं जो इतिहास में हमेशा याद रखा जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि यह उपलब्धि भारत को उन गिने-चुने देशों की अग्रिम पंक्ति में खड़ी करती है जो एसएसबीएन को डिज़ाइन करने, उसे बनाने और उसके संचालन करने की क्षमता रखते हैं.

परमाणु पनडुब्बी अरिहंत की विशेषताएं

  •   अरिहंत का जलावतरण पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी गुरशरण कौर द्वारा 26 जुलाई 2009 को जलावतरण किया गया. यह दिन इसलिए भी चुना गया क्योंकि यह कारगिल युद्ध में विजय की सालगिरह भी थी और इस दिन को कारगिल विजय दिवस या विजय दिवस) रूप में मनाया जाता है.
  •   भारत, अमेरिका, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और चीन के बाद छठा ऐसा देश हो गया है, जिसने अपनी परमाणु पनडुब्बी बनाने में कामयाबी हासिल की है. 
  •   छह हजार टन वजनी अरिहंत में 750 किलोमीटर से लेकर 3500 किलोमीटर तक की मारक क्षमता वाली मिसाइलें तैनात हैं.
  •   इससे पानी के भीतर और पानी की सतह से परमाणु मिसाइल दागी जा सकती हैं. 
  •   इससे पानी के अंदर से किसी विमान को भी निशाना बनाया जा सकता है.

 

क्यों है खास?

परमाणु पनडुब्बी अरिहंत एटमी हथियारों से लैस काफी महत्वपूर्ण हथियार है. यह पनडुब्बी समुद्र के किसी भी कोने से लक्ष्य को निशाना बनाने की क्षमता वाली मिसाइल छोड़ सकती है. साथ ही,  इसे जल्दी डिटेक्ट भी नहीं किया जा सकता. साथ ही परमाणु रिएक्टर से मिली एनर्जी से चलने वाली दूसरी खूबियों के कारण लंबे समय तक गहरे पानी के भीतर भी रह सकती है. भारत को आईएएनएस अरिहंत जैसी छह परमाणु पनडुब्बियों की आवश्यकता है जिन पर 90 हजार करोड़ खर्च का अनुमान है.

स्मरणीय तथ्य

 

  •   अमेरिका 70 से ज्यादा परमाणु पनडुब्बियों के साथ पहले नंबर पर है, जबकि 30 पनडुब्बियों के साथ रूस दूसरे नंबर पर है. इंग्लैंड के पास 12 और फ्रांस के पास 12 पनडुब्बियां हैं.

 

  •  चीन, अमेरिका और रूस की पनडुब्बियां 5000 किलोमीटर तक मारक क्षमता वाली हैं, वहीं आईएनएस अरिहंत की क्षमता 750 से 3500 किलोमीटर तक की है.

 

  •   परमाणु पनडुब्बी के निर्माण लिए भारत का प्रयास 1970 में शुरू हुआ था. जबकि इस क्षेत्र में भारत को 90 के दशक में सफलता हासिल हुई. 
  •   आईएनएस अरिहंत को पहली बार साल 2009 में विशाखापत्नम में शिप बिल्डिंग सेंटर में लॉन्च किया गया था.
  •   अगस्त 2018 में इसे भारतीय नौसेना में सेवा के लिए सौंप दिया गया.