Blog Manager

Universal Article/Blog/News module

Current Affair 25.10.2018

In: India
Like Up: (0)
Like Down: (0)
Created: 25 Oct 2018

25 अक्टूबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

 

1415 - इंग्लैंड ने उत्तरी फ्रांस में एजिनकोर्ट की लड़ाई जीती।

1812 - युद्ध के दौरान अमेरिका फ्रिगेट यूनाइटेड स्टेट्स ने ब्रिटिश पोत मैसिडोनिया पर कब्जा कर लिया।

1917 - बोल्शेविक (कम्युनिस्टों) व्लादिमीर इलिच लेनिन ने रूस में सत्ता हथिया ली।

1924 - भारत में ब्रिटिश अधिकारियों ने सुभाषचंद्र बोस को गिरफ्तार कर 2 साल के लिए जेल भेज दिया।

1951 - भारत में पहले आम चुनाव की शुरूआत हुई।

1962 - अमेरिकी लेखक जॉन स्टीनबेक को साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया।

1964 - अवादी कारखाने में पहले स्वदेशी टैंक ‘विजयंतका निर्माण किया गया।

1971 - संयुक्त राष्ट्र महासभा में ताइवान को चीन में शामिल करने के लिए मतदान हुआ।

1995 - तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव ने संयुक्त राष्ट्र के 50वें वर्षगांठ सत्र को संबोधित किया।

2000 - अंतरिक्ष यान डिस्कवरी (यू.एस.ए.) 13 दिन के अभियान के बाद सकुशल वापस।

2005 - ईराक में नये संविधान को जनमत संग्रह में बहुमत के साथ मंजूरी मिली।

2007 - तुर्की के युद्ध विमानों ने उत्तरी इराक के पहाड़ी कुर्दिस्तान क्षेत्र में भारी बमबारी की। मध्य इण्डोनेशिया के सुलावेसी द्वीप में माउंट सोपुटान ज्वालामुखी फटा।

2008 - सिक्किम के पूर्व मुख्यमंत्री नर बहादुर भंडारी को छह माह की सज़ा सुनाई गई।

2009 - बगदाद में बम धमाकों से 155 लोगों की मौत तथा 721 घायल।

2012 - क्यूबा और हैती में ‘सैंडीतूफान से 65 लोगों की मौत तथा आठ करोड़ डाॅलर का नुकसान हुआ।

2013 - नाइजीरिया में सेना ने आतंकवादी संगठन बोको हराम के 74 आतंकवादियों को मार गिराया।

25 अक्टूबर को जन्मे व्यक्ति 1800 - लॉर्ड मैकाले - प्रसिद्ध अंग्रेज़ी कवि, निबन्धकार, इतिहासकार तथा राजनीतिज्ञ थे।

1896 - मुकुंदी लाल श्रीवास्तव - भारत के प्रसिद्ध साहित्यकार तथा लेखक।

1938 - मृदुला गर्ग- प्रसिद्ध लेखिका। 1912 - मदुराई मणि अय्यर - कर्नाटक संगीत के गायक थे।

1881 - पाब्लो पिकासो - स्पेन के ख्यातिप्राप्त चित्रकार थे।

 

 25 अक्टूबर को हुए निधन

 

1296 - संत ज्ञानेश्वर।

2005 - निर्मल वर्मा- साहित्यकार

1980 - साहिर लुधियानवी, भारतीय गीतकार और कवि

1990 - कैप्टन संगमा मेघालय के पहले मुख्यमंत्री।

2012 -जसपाल भट्टी, प्रसिद्ध हास्य अभिनेता

2003 - पाण्डुरंग शास्त्री अठावले - प्रसिद्ध भारतीय दार्शनिक तथा समाज सुधारक।

 

 

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मैं नहीं हम' ऐप लांच किया

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 24 अक्टूबर 2018 को 'मैं नहीं हम' पोर्टल और ऐप लांच किया. ये पोर्टल 'सेल्‍फ फॉर सोसायटी' की थीम पर काम करेगा.  इससे आईटी पेशेवरों और संगठनों को सामाजिक सरोकार की दिशा में काम करने के लिए एक मंच मिलेगा. इसके माध्यम से समाज के कमजोर तबके को प्रौद्योगिकी का उपयोग करने में मदद मिलने की उम्मीद की जा रही है.

 

कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री मोदी कई उद्योगपतियों से मिले और आईटी पेशेवरों तथा आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक उपकरण बनाने वाली कंपनियों के कर्मचारियों को संबोधित किया.  इस अवसर पर देश भर के 100 से ज्‍यादा स्‍थानों से आईटी और इलेक्‍ट्रॉनिक विनिर्माता वीडियो कांफ्रेंस के जरिए आयोजन से जुड़े.

 

उद्देश्य:

 

इसका उद्देश्य आईटी क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन होने वाले लाभ का फायदा समाज के कमजोर तबकों को पहुंचाना है, यही नहीं पोर्टल के जरिए समाज की बेहतरी के लिए काम करने के इच्‍छुक लोगों की व्‍यापक सहभागिता को भी बढ़ावा दिया जा सकेगा.

 

'मैं नहीं हम' नाम क्यों?

 

यह पोर्टल पर आईटी क्षेत्र से जुड़े कारोबारियों, सामाजिक संगठनों और समाज सेवा से जुड़े लोगों को एक साथ लाने का काम करेगा और इसलिए इसका नाम 'मैं नहीं हम' रखा गया है.

 

डिजिटल भारत का हिस्सा:

 

मोदी सरकार का ये कदम उनके डिजिटल भारत का ही हिस्सा है, जिसके जरिए वो आम लोगों को आईटी के जरिए एक साथ मंच पर लाना चाहती है. इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि बिना कागज के इस्तेमाल के सरकारी सेवाएं इलेक्ट्रॉनिक रूप से जनता तक पहुंच सकें. इस योजना का एक उद्देश्य ग्रामीण इलाकों को हाई स्पीड इंटरनेट के माध्यम से जोड़ना भी है.

 

'मैं नहीं, हम' नारे का इस्तेमाल:

 

बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 'मैं नहीं, हम' नारे का इस्तेमाल किया था. कांग्रेस से पहले इस नारे का इस्तेमाल बीजेपी ने वर्ष 2011 में किया था. 'मैं नहीं, हम' का नारा नरेन्द्र मोदी ने फरवरी 2011 में ही दिया था. मोदी का यह कैंपेन गुजरात सरकार के कामों से जुड़ा हुआ था.